PM मोदी ने एक नारी को रक्षामंत्री बनाकर स्त्री शक्ति को उसकी गरिमा दी है.. स्त्री के दुर्गा स्वरूप को प्रतिस्थापित किया है

PM मोदी ने एक नारी को रक्षामंत्री बनाकर स्त्री शक्ति को उसकी गरिमा दी है.. स्त्री के दुर्गा स्वरूप को प्रतिस्थापित किया है क्योंकि, भारतीय परंरपरा में नारी हमेशा से ही शक्ति का केंद्र रही है, यहां तो ‘शक्ति’ के बिना शिव भी ‘शव’ हैं…ऐसे भारत देश में जहां सृष्टि की सारी शक्ति नारी में समाहित हो और शक्ति की अधिष्ठात्री ख़ुद ‘दुर्गा’ हों जो स्वयं में एक नारी हैं.. ऐसे में अगर मोदी की नई ‘दुर्गा’ यानी निर्मला सीतारमन के लिए रक्षा मंत्रालय संभालना कौन सी बड़ी बात है। जिस देश में शक्ति प्राप्त करने के लिए देवता तक नारी के सामने गिड़गिड़ाते हों उस देश में नारी का शक्ति का केंद्र बनना भला कौन सी बड़ी बात है। नारी की श्रेष्ठता का गान तो युग-युगांतर से वेद और पुराण करते आए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक नारी को रक्षा मंत्री बनाना निश्चय ही उसकी शक्ति को सम्मान देना है, उसे उसके दुर्गा स्वरुप की याद दिलाना है। कि, जब देवासुर संग्राम हुआ था तो तमाम देवताओं ने मिलकर शक्ति की उपासना की थी और उस शक्ति की अनन्य शक्तियों से एक-एक शक्ति मिलकर देवी दुर्गा का प्रादुर्भाव हुआ था। देवी दुर्गा ज्वाला का वो रूप थीं कि जिनकी लपटों मात्र से ही तमाम आसुरी शक्तियां जलकर भस्म हो गई थीं।

आज फिर वो समय नज़दीक है, पड़ोसी देशों से लगती सीमाओं से लेकर आंतरिक सुरक्षा तक हर कहीं आसुरी प्रवृत्तियां समय समय पर मुंह उठाए खड़ी रहती हैं। ऐसे में देवी दुर्गा के उस तेज की सेना को आज फिर ज़रुरत है जिसके तेज से आसुरी शक्तियां फिर तहस-नहस हो जाएं।

इतिहास साक्षी रहा है कि भारतीय सनातन परंपरा में नारियां घर, परिवार, समाज और शक्ति का केंद्र थीं और शेष सब उसकी परिधि का विस्तार था। फिर चाहे वो वैदिक काल में गार्गी हों, मैत्रेयी हो, लोपामुद्रा हों या फिर रानी लक्ष्मीबाई, बसंतलता हजारिका, रानी चेनम्मा, उडा देवी, जानकी अति नहापन, भीमाबाई होलकर, अज़ीज़न बाई और गुलाब कौर ही क्यों न हों। इस सभी नारियों ने ज्ञान, दर्शन और वीरता पर विजय हासिल की थी और शक्ति का उन्मत केंद्र थीं।

Team GI

Team GI is a group of committed individuals with National Interest in mind.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *