9 साल पहले किया होता 100 रुपए का निवेश तो आज होते 7.5 करोड़ के मालिक.. जानें, क्रिप्टो करंसी से कैसे बन सकते हैं करोड़पति।

क्रिप्टो करंसी क्या है … सुना तो ये भी है कि रुपया, नोट और डॉलर से भी इसकी वैल्यू है… क्या, आने वाले वक़्त में रुपया, नोट और डॉलर बंद हो जाएंंगे और सिर्फ़ क्रिप्टो करंसी में व्यापार होगा।  ये वो कुछ चंद सवाल हैं, जो कि वायदा क़ारोबार करने वाले क़ारोबारियों के ज़ेहन में आते तो हैं.. लेकिन, कहीं भी उन्हें इसका सॉल्यूशन नहीं मिलता। क्योंकि, शेयर बाज़ार में क्रिप्टो करंसी का चलन तेज़ी से बढ़ तो रहा है लेकिन, ज़्यादातर क़ारोबारियों को इससे जुड़ी जानकारियां नहीं हैं।

Master (2)

तो, अब हम आपको बताते हैं कि आख़िर क्रिप्टो करंसी क्या है और इससे कैसे व्यापार होता है। दरअसल, क्रिप्टो करंसी एक तरीके से वर्चुअल करंसी मानी जाती है और इसके तहत अलग-अलग नामों से क्रिप्टो करंसी चलन में है। जैसे.. बिटकॉइन, एमकैप और यूथेरियम क्रिप्टो करंसी। जिसमें बिटकॉइन इस वक़्त सबसे ज़्यादा मूल्यवान करंसी है। जानकारों की मानें तो 2009 में जब ये करंसी चलन में आई तो उस वक़्त इसकी क़ीमत थी 36 पैसे लेकिन, आज एक बिटकॉइन की क़ीमत 4,000 डॉलर के पार यानी करीब 270 लाख रुपए हो गई है। यानी कि ्अगर आपने 9 साल पहले बिटकॉइन में 100 रुपये का निवेश किया होता तो आज आपके पास 7.5 करोड़ रुपए के मालिक़ होते।ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक़ 21 अगस्त को ये करंसी अब तक की सबसे ऊंचाई पर यानी 4200 डॉलर की ऊंचाई पर थी।

भारतीय मूल के इंजीनियर और एम कैप के संस्थापक अमित भारद्वाज

एम कैप के संस्थापक अमित भारद्वाज

लेकिन, जिन लोगों को बिटकॉइन में निवेश नहीं कर पाए हैं या जिन्हें इसकी जानकारी नहीं थी, उन भारतीय क़ारोबारियों के लिए भारत में ही जन्में भारतीय मूल के इंजीनियर अमित भारद्वाज ने एम कैप नाम से क्रिप्टो करंसी को डिजाइन किया है। अमित भारद्वाज ने क्रिप्टो करंसी एम कैप की संरचना कर भारतीय क़ारोबारियों की राह आसान की है, जो जोखिम भरा लेकिन अच्छा रिटर्न चाहते हैं।

AAEAAQAAAAAAAAzWAAAAJDIxMTVmYmMyLTBlMGMtNDIwOC05ZTVmLTQwNjBkMGMxNTVkZg - Copy

भारत में क्रिप्टो करंसी के शुरुआती कारोबार से जुड़े अमित भारद्वाज के मुताबिक़ क्रिप्टो करंसी का भविष्य काफी बेहतर है और अगर आप बिटकॉइन में निवेश करने से चूक गए हों .. तो, बाज़ार में मौदूग एम कैप और यूथेरियम क्रिप्टो करंसी में निवेश कर सकते हैं। लेकिन, यूथेरियम की क़ीमत जहां 300 डॉलर है तो बिटकॉइन का 4200 डॉलर। ऐसे में एम कैप में निवेश ही बेहतर विकल्प है क्योंकि, अमित भारद्वाज ने एमकैप की क़ीमत सिर्फ़ 2 डॉलर की ही रखी है। यानी, अगर आप एम कैप के साथ शुरुआती क़ारोबार से जुड़ना चाहते हैं तो आपको निकट भविष्य में बड़ा लाभ हो सकता है। बाज़ार के जानकारों ंका भी कहना है कि जिस तरह से 10 साल पहले बिटकॉइन में निवेश करने वाला शख़्स इस वक़्त 7.5 करोड़ का मालिक है। वैसे ही, एम कैप में 2 डॉलर प्रति एम कैप क्रिप्टो करंसी में निवेश कर आप भी आने वाले वक़्त में करोड़पति बन सकते हैं। वहीं, बाज़ार के जानकारों का भी कहना है कि इस साल के आख़िर तक एम कैप क्रिप्टो करंसी का मूल्य 100 डॉलर तक पहुंच सकती है।

हालांकि, क्रिप्टो करंसी को भारत सरकार ने क़ानूनी मान्यता नहीं दी है  लेकिन, ज़्यादातर देशों मे क्रिप्टो करंसी का चलन शुरु हो गया है और इसमें ही व्यापार किया जा रहा है। दुनिया भर में करीब 90 से भी ज़्यादा वर्चुअल करंसी चलन में हैं।

Team GI

Team GI is a group of committed individuals with National Interest in mind.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *