PM मोदी ने उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को उनकी विदाई पर राज्यसभा में दिया ये जवाब

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने भले ही सरकार पर इशारों-इशारों में निशाना साधा हो, और उन्हें अब मुस्लिम इस देश में असुरक्षित लगते हों। लेकिन, इन सबसे जुदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की विदाई पर बेहद ही सधे हुए और सरल अंदाज में राज्यसभा में उन्हें विदाई की शुभकामनाएं दीं।

इस दौरान पीएम मोदी ने राज्यसभा में कहा कि सभापति महोदय जी 10 साल पूरी तरह से एक अलग जिम्मा आपके पास आया और पूरी तरह से संविधान और संविधान के दायरे में चलाना और आपने उसे बखूबी निभाने का प्रयास किया। हो सकता है कि कुछ छटपटाहट रही आपके अंदर भी, लेकिन आज के बाद शायद यह संकट आपको नहीं रहेगा।

1052927_4315021892030_118292149_o

पीएम ने कहा कि, आपके कार्यकाल का बहुत सारा हिस्सा वेस्ट एशिया से जुड़ा रहा है। उसी दायरे में आपकी जिंदगी के बहुत सारे साल गए। उसी माहौल में, उसी सोच में, उसी डीबेट में ऐसे लोगों के बीच में रहे। वहां से रिटायर होने के बाद भी ज्यादातर काम भी वही रहा आपका, अल्पसंख्यक आयोग हो या अलीगढ़ यूनिवर्सिटी हो… तो एक दायरा वही रहा।

पीएम ने कहा कि, आपका अपना जीवन भी एक करियर डिप्लोमैट का रहा। करियर डिप्लोमैट क्या होता है, यह मुझे पीएम बनने के बाद ही समझ आया। क्योंकि उनके हंसने का अर्थ क्या होता है, उनके हाथ मिलाने का अर्थ क्या होता है .. वह तुरंत समझ नहीं आता है। क्योंकि उनकी ट्रेनिंग वही होती है। लेकिन इस कौशल का उपयोग 10 साल यहां जरूर हुआ होगा… सबको संभालने में उस कौशल का लाभ इस सदन को मिला होगा।

hamid-ansari_650x400_41502344000

पीएम ने कहा कि, एक ऐसा परिवार जिनका करीब 100 साल का इतिहास सार्वजनिक जीवन का रहा। उनके नाना और उनके दादा कभी राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष रहे, कभी संविधान सभा में रहे। एक प्रकार से आप ऐसे परिवार की पृष्ठभूमि से आते हैं जिनके परिवार का सार्वजनिक जीवन से, खासकर कांग्रेस के जीवन के साथ और कभी खिलाफत मूवमेंट के साथ भी काफी कुछ सक्रियता रही है।

वहीं, अंत में पीएम मोदी ने उपराष्ट्रपति को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि सभापति जी एक दीर्घकालीन सेवा के बाद आज आप नई कार्यक्षेत्र की ओर प्रयाण करेंगे, ऐसा मुझे पूरा भरोसा है, क्योंकि फिजिकली आपने अपने आपको काफी फिट रखा है।

 

Team GI

Team GI is a group of committed individuals with National Interest in mind.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *